भगवान श्री गणेश का स्वरूप देता है कई संदेश

0
365

भगवान गणेश सुख-संपत्ति के दाता हैं। किसी भी काम को शुरू करने से पहले भगवान गणेश की वंदना की जाती है। क्या आपको पता है गणपति का स्वरूप आपको कई तरह के संदेश देता है। जानिए क्या है भगवान गणेश के स्वरूप में छिपे संदेश …

लंबी सूंड : भगवान गणेश अपनी लंबी सूंड से संदेश देते हैं कि जीवन में ग्रहण करने की क्षमता सूंड की तरह अधिक होनी चाहिए, अच्छाइयों को ग्रहण करें और विकारों को दूर करें। भगवान की सूंड शक्ति का प्रतीक है। इससे यह संदेश मिलता है कि अपनी शक्ति को व्यर्थ में प्रदर्शित नहीं करना चाहिए।

एक दंत : भगवान गणेश के एक दांत हैं। लोक कल्याण के लिए और वेद की रचना के लिए अपना एक दांत गणपति ने सहर्ष दे दिया, अपने प्रिय दंत को भगवान ने त्याग दिया। ऐसे में इससे हमें त्याग करने का संदेश मिलता है। जीवन में त्याग को महत्त्व देने से हम दुखों से दूर हो जाते हैं। कई बार त्याग लोगों के लिए वरदान बन जाता है और आत्मिक सुख प्रदान करता है।

चतुर्भुज स्वरूप : भगवान अपने चतुर्भुज स्वरूप में अपने एक हाथ में पाश, एक में फरसा, एक में मोदक और एक हाथ से आशीर्वाद प्रदान करते हैं। चतुर्भुज स्वरूप में वे यह संदेश देते हैं कि जीवन में अंकुश भी जरूरी है लेकिन यह कम और अधिक नहीं होना चाहिए। अंकुश के बिना जीवन बेकार है इसके ना होने से व्यक्ति के अपने पथ से भटकने की संभावना बढ़ जाती है लेकिन आवश्कता से अधिक अंकुश व्यक्ति के विकास को रोक देता है।

लंबा पेट : भगवान गणेश का पेट लंबा है इसी कारण उन्हें लंबोदर के नाम से भी पुकारा जाता है। यह इस बात का संदेश देता है कि भगवान ने जिस तरह से सृष्टि को अपने अंदर समाहित किया है उसी तरह से जीवन के सभी गुणों को हम आत्मसात करें। हर व्यक्ति में गुण और दोष होते हैं लेकिन उसकी अच्छाइयों को महत्त्व देकर हम उससे अच्छा व्यवहार करें और उससे सीखें तो हमारा जीवन सुखमय हो जाएगा।