हिदायत, धीमी रहे धर्मस्थलों के लाउडस्पीकरों की आवाज

0
22

गोरखपुर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आईजीआरएस व जन शिकायतों का निस्तारण प्रभावी ढंग से किया जाये। जनप्रतिनिधि भी प्रतिदिन 2 घंटे जनसुनवाई करें और अधिकारी जनप्रतिनिधियों से प्राप्त शिकायत पत्रों का निस्तारण गुणवत्तापरक करते हुए जनप्रतिनिधियों को निस्तारण से भी अवगत कराएं। जनप्रतिनिधियों को आकांक्षात्मक विकास खण्डों की जानकारी भी दी जाये। कहा कि जनप्रतिनिधियों के साथ बेहतर संवाद करके विकास कार्यक्रमों को गति देने के लिए कार्य करना होगा।

सीएम योगी बुधवार को गोरखपुर कमिश्नरी सभागार में गोरखपुर मंडल के चार जनपदों (गोरखपुर, महराजगंज, देवरिया व कुशीनगर) के विकास कार्यों, निर्माणाधीन परियोजनाओं व कानून व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। तीन घंटे तक चली मैराथन समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ने प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग को आयुष विश्वविद्यालय, कुशीनगर मेडिकल कॉलेज तथा बीआरडी मेडिकल कॉलेज के सुपर स्पेशलिटी ब्लॉक के कार्यो की जांच के लिए अलग-अलग कमेटी बनाकर एक सप्ताह में रिपोर्ट देने के लिए निर्देशित किया। साथ ही उन्होंने देवरिया जिले में जल निकासी की योजना में विलंब होने की जांच करने की हिदायत मंडलायुक्त को दी।

इंसेफेलाइटिस पर बेहतर सर्विलांस बनाए रखें : मुख्यमंत्री ने कहा कि गोरखपुर मंडल के चारो जनपद बाढ़ एवं सूखा के लिए अपनी पूरी तैयारी रखें। अधिक वर्षा होने पर कहीं भी जल जमाव की स्थिति न रहने पाये। सीएम योगी ने कहा कि गोरखपुर मंडल इंसेफेलाइटिस के लिए संवेदनशील है। सभी जिले अपना सर्विलांस बेहतर रखें। जिलाधिकारी तथा मुख्य चिकित्साधिकारी लगातार समीक्षा करें। कोई भी मरीज 102 व 108 एम्बुलेंस के अलावा किसी अन्य साधन से न आये।

धीमी रहे धर्मस्थलों के लाउडस्पीकरों की आवाज : सीएम योगी ने कहा कि धर्मस्थलों के लाउडस्पीकर के आवाज को धीमा रखा जाये। इसके लिए थाना, सर्किल स्तर पर जिम्मेदारी दी जाये। पर्व एवं त्यौहारो के दृष्टिगत निर्देश देते हुए सीएम योगी ने कहा कि किसी सार्वजनिक स्थान पर ताजिया आदि न रखी जाये। किसी भी शोभायात्रा में अस्त्र-शस्त्र का प्रयोग न हो। डीजे आदि का आवाज भी धीमी रहे। उन्होंने कहा कि कहीं भी टैम्पो स्थल, बस स्टेशनो पर अवैध वसूली की शिकायत न आये। यदि कहीं शिकायत मिलती है तो कठोरतम कार्यवाही की जाये। सीएम योगी ने कहा कि जल निगम से जुड़ी परियोजनाओं, प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी का हर जनपद सत्यापन करा ले। गौआश्रय स्थलों को गोवर्धन योजना से जोड़ा जाए और उन्हें स्ववित्तपोषित करने के लिए कार्य योजना को आगे बढ़ाया जाए।

यूनिफार्म में ही स्कूल आएं बच्चे : स्कूल चलो अभियान की समीक्षा करते हुए सीएम योगी ने कहा कि बेसिक शिक्षा अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि सभी बच्चों के अभिभावक खाते में आई रकम का इस्तेमाल यूनिफार्म, आदि के लिए ही करें। सभी बच्चे यूनिफार्म में ही स्कूल आएं।

मंडी, अस्पताल के लिए बनाएं योजना : सीएम ने कहा कि सीमावर्ती जनपद में अच्छी मंडी, अस्पताल आदि के लिए योजना बनाकर शासन को भेजा जाये। साथ ही प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना, घरौनी योजना में और बेहतर कार्य किया जाये। स्ट्रीट वेण्डरो का व्यवस्थित पुनर्वास किया जाए। बैंकर्स के साथ बैठक कर स्वरोजगार के लिए ऋण उपलब्ध कराया जाये तथा रोजगार मेले लगाए जाएं।