अब गोला गोकर्णनाथ लखीमपुर में भी दौड़ा निवेश का पहिया

0
362

लखनऊ। रामपुर और आजमगढ़, जिसने योगी आदित्यनाथ के आह्वान पर उपचुनाव में कमल खिलाया। योगी आदित्यनाथ ने इन जिलों को न सिर्फ माफिया से मुक्त कराकर विकास की गंगा बहाई, बल्कि नई पहचान भी दी। वसुधैव कुटुंबकम् की भावना को चरितार्थ करने वाले योगी आदित्यनाथ ने अन्य जिलों की भांति रामपुर और आजमगढ़ के संपूर्ण विकास का भी रोडमैप तैयार किया। जीआईएस के बाद 33.52 लाख करोड़ के निवेश के जरिए अब विकास की योजनाओं को धरातल पर उतारने की तैयारी कर ली। वहीं गोला गोकर्णनाथ वाले जिले (लखीमपुर खीरी) में भी निवेश को लेकर काफी माहौल तैयार किया। जीआईएस में एमओयू के बाद लखीमपुर खीरी में 42960 करोड़, रामपुर में 4757 और रामपुर में 2214 करोड़ रुपये का निवेश होगा। इसके जरिए 1.29 लाख से अधिक युवाओं को अपने घर-जिले में ही रोजगार मिलेगा।

गोला गोकर्णनाथ लखीमपुर खीरी जिले में है। यहां बीते दिनों उपचुनाव हुआ था। योगी आदित्यनाथ ने विकास की बदौलत लोगों से वोट की अपील की। लिहाजा यहां से अमन गिरि कमल का फूल खिलाने में सफल हुए। यहां के विकास को गति देते हुए जीआईएस से जोड़ा गया तो यहां यूनाइटेड स्टेट्स की इंपीरिया इनोवेशन इनवेस्ट (ऑस्टिन कंसल्टिंग ग्रुप) ने निवेश की इच्छा जताई। एजूकेशन और इंफ्रास्ट्रक्चर पर इस ग्रुप का विशेष जोर है। यहां महज 78 प्रस्तावों के जरिए 42960 करोड़ रुपये का निवेश होगा। इससे सिर्फ लखीमपुर खीरी और आसपास के जिलों के 107184 युवाओं को रोजगार से उड़ान मिलेगी।

अब माफिया नहीं, विकास है रामपुर की पहचान : रामपुर अब माफिया मुक्त हो गया। यहां मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आमजन को भय और भ्रष्टाचार से निजात दिलाई। माफिया मुक्त होने के कारण यहां उपचुनाव हुआ तो कमल खिला। योगी आदित्यनाथ ने इसे देखते हुए रामपुर को नई पहचान दिलाई। विकास, विकास और सिर्फ विकास से ही रामपुर परिभाषित होने लगा, लिहाजा रामपुर में कई कार्य शुरू हुए। अब योगी आदित्यनाथ ने रामपुर की सुधि ली और इसे भी विकास से जोड़ा तो निवेशकों का मन भी यहां निवेश को लेकर सकारात्मक बना। जीआईएस 2023 में 184 निवेश प्रस्ताव इस जिले को मिले। 4757 करोड़ रुपये से यहां के उद्योगों को बल मिलेगा और 12000 युवा अपने रामपुर में ही रोजगार पाएंगे।

अब आजमगढ़ अपने युवाओं को घर में ही देगा रोजगार : आजमगढ़ लोकसभा उपचुनाव में भी योगी आदित्यनाथ के आह्वान को मतदाताओं ने जीत में बदला। यहां से भाजपा का कमल खिला। इस जिले से बाहर कमाने जाने वाले युवाओं की संख्या कभी काफी अधिक होती थी। उत्तर प्रदेश के मुखिया ने इस दर्द को समझा। पहले खुद पहल कर यहां की सड़कों, बिजली, पानी समेत मूलभूत सुविधाओं को ठीक कराया। अब इसे उद्योग व रोजगार से जोड़ने की पहल की तो जीआईएस के जरिए आजमगढ़ में 2214 करोड़ के निवेश प्रस्ताव आए। इसके जरिए यहां के 10166 युवाओं को रोजगार से जोड़ने का खाका तैयार किया जा रहा है।