गोल्ड स्क्रैप की सप्लाई 61% बढ़ी, आरबीआई ने 10 टन तो चीन ने 21 टन खरीदा

0
311

गोल्ड स्क्रैप की सप्लाई 61% बढ़ी, आरबीआई ने 10 टन खरीदा तो चीन ने 21 टन।…. इधर देश में सोने की मांग में गिरावट आई है, चालू साल के बाकी महीनों में भी पीली धातु की मांग और आयात दोनों में कमी रहने का अनुमान लगाया गया है। ज्वेलरी की बिक्री घटी है। सोने के मूल्यों में तेजी के कारण लोगों ने बड़ी मात्रा में पुरानी ज्वेलरी बेंची है जिससे इस साल अप्रैल – जून की तिमाही में बाजार में गोल्ड स्क्रैप की आपूर्ति में 61 प्रतिशत की जबरदस्त बढ़ोतरी हुई है। वैसे वर्ल्ड गोल्ड कौंसिल ने बीते साल के मुकाबले इस वर्ष भारत में सोने की मांग दस प्रतिशत घटकर 700 टन (7 लाख किलोग्राम) के लगभग रहने का अनुमान व्यक्त किया है।

पिछले वर्ष 774.1 टन (7 लाख 74 हजार 100 किलो ग्राम थी। इधर भारतीय रिज़र्व बैंक ने चालू वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही अप्रैल -जून में 10 हजार किलो ग्राम सोना खरीदा तो पड़ोसी चीन के केंद्रीय बैंक पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना ने इस साल जून में 21 हजार किलो ग्राम सोना खरीदा। चीन जनवरी से जून के बीच 1 लाख तीन हजार किलो ग्राम सोना खरीद चुका है। चीन पिछले आठ महीनों से लगातार सोने की खरीद कर रहा है, उसके आरक्षित भंडार में 2023, 1 जुलाई को 2113 टन अर्थात 21 लाख 13 हजार किलो ग्राम सोना जमा हो गया।

इस साल अप्रैल -जून की तिमाही में ज्वेलरी की मांग में आठ प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई। इस अवधि में ज्वेलरी की मांग 11 हजार 700 किलो ग्राम घटकर 1 लाख 28 हजार 600 किलो ग्राम रह गई, पिछले साल समान अवधि में 1 लाख 40 हजार 300 किलो ग्राम थी।

प्रणतेश बाजपेयी