मॉर्निंग वॉक करें लेकिन सावधानी भी बरतें

0
270

अच्छी सेहत के लिए मॉर्निंग वॉक योगाभ्यास प्राणायाम जिम आदि युवाओं की पसंद बनते चले जा रहे हैं। युवा बीमारियों के निदान और और शारीरिक और मानसिक अच्छे स्वास्थ्य के लिए इन क्रियाओं को जीवन में उतारते हैं। उनका अभ्यास करते हैं किंतु थोड़ी सी असावधानी स्वास्थ्य लाभ के स्थान पर अस्वस्थ कर सकती है।

मॉर्निंग वॉक करते समय योगाभ्यास और प्राणायाम के अभ्यास करते समय तथा जिम में क्या क्या सावधानियां रखे हैं ताकि हम अपनी सेहत के लिए जो प्रयास कर रहे हैं उसका संपूर्ण रूप से लाभ प्राप्त हो सके। इस महत्वपूर्ण विषय पर डॉ रजनी पोरवाल मुख्य चिकित्सक श्रीनाथ आयुर्वेद चिकित्सालय भगवत दास घाट रोड सिविल लाइंस कानपुर ने छोटी-छोटी भूलों और गलतियों को उजागर कर अच्छे स्वास्थ्य का मार्ग प्रशस्त किया है।

मॉर्निंग वॉक हितकारी है लेकिन गलती बीमारी कारक

मॉर्निंग वॉक पर जाने से पहले शौच मंजन आदि से निवृत्त होकर ढीले हवादार वस्त्र पहन कर ही घर से निकले।

मॉर्निंग वॉक पर जाने से पहले शराब बीड़ी सिगरेट पान मसाला तंबाकू इत्यादि का सेवन हरगिज़ ना करें, कॉफी या चाय का सेवन करना किसी भी रूप में उचित नहीं है। यह शरीर की आंतरिक रक्षा प्रणाली इम्यूनिटी को कमजोर करता है।

फैशन और दिखावा के उद्देश्य से टाइट और सिंथेटिक कपड़े मॉर्निंग वॉक के लाभ को कम कर देते हैं।

मॉर्निंग वॉक पर जाने से पूर्व भरपूर मात्रा में पानी पी लेना चाहिए कम से कम दो से 4 गिलास पानी पीकर वह करना चाहिए ताकि वह करते समय शरीर के अंदर जो गर्मी पैदा हो उससे खुलकर पसीना बाहर निकले और शरीर के आंतरिक अंगों में एकत्रित गंदगी शरीर से बाहर निकल जाए।

मॉर्निंग वॉक के दौरान मुंह खोलकर सांस नहीं लेना चाहिए, दोनों नासा रंध्र से खूब लंबा और गहरा सांस प्रवास अच्छी सेहत की निशानी है।

लंबी गहरी सांस लेकर रीड की हड्डी को सीधा रखकर तेज तेज कदम चलते हुए मॉर्निंग वॉक करना उचित होता है।

बातचीत करते हुए या जोर-जोर से फोन पर बात करके मॉर्निंग वॉक करना सही नहीं है। मॉर्निंग वॉक के समय मुंह बंद रखें और लंबा गहरा सांस नाक से ही लें।

कान में मोबाइल की लीड लगाकर वाक करना अच्छी सेहत के लिए उचित नहीं है।

मॉर्निंग वॉक से वापस आने के तुरंत बाद स्नान नहीं करना चाहिए कम से कम आधा घंटे तक इंतजार करें।

वॉक के बाद घर लौट कर चाय समोसा पकौड़ी या पराठे इत्यादि का सेवन नहीं करना चाहिए। मॉर्निंग वॉक से वापस आकर दोबारा सो जाना या तुरंत स्नान कर लेना भी उचित नहीं है।

मॉर्निंग वॉक से जब घर वापस आए तो हल्का और सुपाच्य नाश्ता करें फलाहार या ताजे फलों का रस मट्ठा गुनगुना दूध ताजे फल में से जो आपकी रूचि का फल हो उसका सेवन भरपूर मात्रा में करें।

योगाभ्यास के समय भी योग क्रियाओं के पूरे लाभ प्रदान करने में मदद करती हैं। योगाभ्यास जल्दी करें तू योगिक आसनों का अभ्यास शास्त्रोक्त विधि विधान से करें तभी लाभ मिलने की संभावना है।

सर्दी के मौसम में शरीर के अंदर ठंड पैदा करने वाले और गर्मी के मौसम में शरीर के अंदर गर्मी पैदा करने वाले प्राणायाम का अभ्यास ना करें।

प्राणायाम की शास्त्रोक्त विधि विधान गुरु के मार्गदर्शन में सीख लेना चाहिए आसन और प्राणायाम का अभ्यास सोशल साइट्स मीडिया फेसबुक इत्यादि से सीकर नहीं करना चाहिए।

प्राणायाम योगिक आसन और सूक्ष्म व्यायाम का अभ्यास गुरु के मार्गदर्शन करें और कौन-कौन सी क्रिया का अभ्यास आपके लिए हितकारी है उसे गुरु की कृपा से अच्छी तरह सीखकर जीवन में उतार लेना चाहिए।

जिम से घर आने के बाद अपने हाथ पैरों को अच्छी तरह धोना चाहिए, और जिम में मशीनों का इस्तेमाल करते समय हाइजीन और स्वच्छता दोनों का ध्यान देना जरूरी है।

जिम में मिलने वाले विभिन्न प्रकार के स्वास्थ्यवर्धक पाउडर सिरप आदि का सेवन बिना चिकित्सक के परामर्श के न करें।

शारीरिक क्षमता से ज्यादा वाक करना, योगाभ्यास करना या जिम करना मांसपेशियों में दर्द और सूजन पैदा करता है।

अचानक कमजोरी लगना या थकान हो जाना या चलने फिरने की इच्छा ना होना किसी भी रूप में उचित नहीं है।