दक्षिण भारत में भगवान कार्तिकेय की विशेष मान्यता

0
1630

दक्षिण भारत में भगवान श्री कार्तिकेय की विशेष मान्यता है….. कार्तिकेय या मुरुगन भगवान शिव और माता पार्वती के सबसे बड़े पुत्र हैं। हालांकि संपूर्ण भारत में ही कार्तिकेय की पूजा की जाती है, किंतु मुख्यत: भारत के दक्षिणी राज्यों, विशेषकर तमिलनाडु में भगवान श्री कार्तिकेय की विशेष मान्यता है। विश्व में जहाँ कहीं भी तमिल निवासी/प्रवासी रहते हैं जैसे कि श्रीलंका, मलेशिया, सिंगापुर आदि में भी यह पूजे जाते हैं।

भगवान श्री कार्तिकेय के छ: सबसे प्रसिद्ध मंदिर तमिलनाडु में स्थित हैं। तमिल इन्हें तमिल कडवुल यानि कि तमिलों के देवता कह कर संबोधित करते हैं। यह भारत के तमिलनाडु राज्य के रक्षक देव भी हैं। इनके छोटे भाई बहन देवी अशोकसुन्दरी, भगवान अय्यपा, देवी ज्योति, देवी मनसा और भगवान श्रीगणेश हैं। इनकी दो पत्नियां हैं जिनके नाम हैं देवसेना और वल्ली। देवसेना देवराज इंद्र की पुत्री हैं जिन्हें छठी माता के नाम से भी जाना जाता है। जब कि वल्ली एक आदिवासी राजा की पुत्री हैं।