ठहाका मार कर हंसने से पाचन तंत्र रहता दुरुस्त

0
106

कानपुर/लखनऊl मौज व आनंद के लिए हंसना बेहद जरूरी है क्योंकि मुस्कुराकर गम का जहर जिनको पीना आ गया यह हकीकत है कि जहां मैं उनको जीना आ गया भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी हास्य के बारे में कहते थे की हंसी मन की गांठे बड़ी ही सरलता से खोल देती हैं और मेरे मन की ही नहीं अपितु तुम्हारे मन की भीl उपरोक्त बात नशा मुक्त समाज आंदोलन अभियान कौशल के तहत विश्व योग दिवस की पूर्व दिवस पर सोसाइटी योग ज्योति इंडिया के तत्वाधान में आर आर ग्रुप ऑफ़ इंस्टिट्यूशन के सहयोग से मानवता के लिए करें योग थीम पर हास्य योग कार्यक्रम में अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्त अभियान के प्रमुख नशा मुक्त समाज आंदोलन अभियान कौशल का के नेशनल ब्रांड एंबेसडर योग गुरु ज्योति बाबा ने कहीl

ज्योति बाबा ने कहा कि हंसना सबसे सस्ती दवा हैl हंसना जीवन का उज्जवल पहलू हैl एक चिकित्सक ने अपने प्रयोगों के आधार पर यह सिद्ध किया कि ठहाका मारकर हंसने से पाचन तंत्र हमेशा दुरुस्त रहता हैl चेहरे पर हमेशा भीनी भीनी हंसी रखने वाले ज्यादातर ईर्ष्या द्वेष राग से ऊपर उठकर समाज सेवा में अग्रणी भूमिका निभाते हैंl हंसी जीवन काटना नहीं बल्कि उन्मुक्तता से जीना सिखाती हैl

आरआर ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के डायरेक्टर समाजसेवी अनिल अग्रवाल ने कहा की हास्य रस की चाशनी में डूबे व्यक्ति कभी भी तनाव और मानसिक बीमारियों के शिकार नहीं होते हैंl हंसी के बारे में डॉक्टर मार्टिन गेम ने अपनी पुस्तक एनाटोमी ऑफ द मिनेंस मे लिखा हैl प्रसंता आसमान से नहीं टपकती वह भले इंसान के अंदर उठती हैl

अनिल अग्रवाल ने बताया कि मुस्कुराता चेहरा उदार हाथ दान नम्र स्वभाव और उज्ज्वल चरित्र यह तभी आती हैl जब व्यक्ति खुश हो और खुशी तभी आएगी जब व्यक्ति हंसमुख हो हंसी तनाव को छूमंतर कर जीने की कला सिखाती हैl इसीलिए रोज हास्य योग करने का संकल्प सभी स्टूडेंट मस्त जिंदगी जीने के लिए जरूर लेl

इसके पश्चात सभी को मानवता की रक्षा के लिए योग गुरु ज्योति बाबा ने तामसिक नशे को जीवन से निकाल फेंकने हेतु संकल्प भी कराया, अंत में आरआर ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के अनिल अग्रवाल ने योग गुरु ज्योति बाबा को अंग वस्त्र व मोमेंटो देकर योगमय माहौल में सम्मानित किया l