कोरोना काल : स्वास्थ्य के लिए आयुष कवच बना वरदान

0
611

लखनऊ। मुख्‍यमंत्री की लांच की हुई आयुष कवच एप कोरोना काल में लोगों के लिए वरदान साबित हो रही है। विशेषज्ञ रोजाना तीन सौ से अधिक लोगों को प्राणायाम के जरिए शरीर की प्रतिरोध क्षमता व शरीर में आक्‍सीजन बढ़ाने के लिए प्राणायाम करा रहे हैं। असल में अभी हाल में सीएम ने आयुष चिकित्‍सों से लोगों को प्राणायाम की सही विधि बताने की अपील की थी। इसके बाद से विशेषज्ञ रोजाना लोगों से प्राणायाम के जरिए सेहतयाब कर रहे हैं।

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने पिछले साल 5 मई को आयुष कवच एप को लांच किया था। एप का मकसद पुरानी पराम्‍परिक आयुर्वेदिक चिकित्‍सा के जरिए लोगों को कोरोना से बचाना था। विशेषज्ञों के अनुसार भारतीय संस्‍कृति में आयुर्वेदिक चिकित्‍सा बहुत ही प्राचीन पद्धति है। इसमें हर बीमारी का इलाज मौजूद है। इसको आगे बढ़ाने के लिए इस एप को लांच किया था। महज एक साल के अंदर ही इस एप ने सारे रिकार्ड तोड़ दिए। आयुष कवच एप के मौजूदा समय में 20 लाख से अधिक सब्‍सक्राइबर हैं।

बता रहे हेल्‍थी लाइफ स्‍टाइल के तरीके : आयुष विभाग के प्रभारी अधिकारी डॉ एके दीक्षित के मुताबिक आयुष कवच एप में टेली कवच फीचर को एड किया गया है। यह एक तरह का आडियो फीचर है। लोग इस पर जाकर हेल्‍थी लाइफ स्‍टाइल कैसे बनाई जाए, इसकी जानकारी विशेषज्ञों से ले सकते हैं। इसमें अलग-अलग विषयों पर रिकार्ड आडियो भी बनाकर डाले गए हैं। इनसे भी लोगों को काफी मदद मिल रही है। डॉ दीक्षित बताते हैं कि नए फीचर के शामिल होने के बाद रोजाना तीन सौ से अधिक लोग हेल्‍थी लाइफ स्‍टाइल के बारे में जानकारी हासिल कर रहे हैं।

रोजाना ऑनलाइन योगा : आयुष कवच एप पर रोजाना तीन सौ से अधिक लोग योगा कर रहे हैं। सुबह 8 बजे से विशेषज्ञ रोजाना योग कक्षाएं चला रहे हैं। विशेषज्ञ द्वारा विभिन्‍न योगासन के साथ- साथ लोगों को प्राणायाम करा रहे हैं। डॉ दीक्षित ने बताया कि इस फीचर को लोग काफी पसंद कर रहे हैं। रोजाना ऑनलाइन योग कक्षा से जुड़ने वालों की संख्‍या में इजाफा होता जा रहा है।